कविता : अस्तित्व